Aapada

आपदा प्रबंधन 

प्राकृतिक एवं मानव जनित आपदाएं समय समय पर समाज एवं देश पर आती रहती हैं, ऐसी स्थिति में समाज के आपदा पीड़ित लोगों को आपदा से बचने के लिए आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण वर्ग व प्रान्त स्तर पर आयोजित किया जाता है।


– सोनीपत स्थित झिंझोली एवं दिल्ली स्थित वजीराबाद में आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित करने की योजना पर कार्य प्रगति पर है। प्राकृतिक आपदा के समय हम संबंधित प्रान्त की प्रतिनिधि संस्था से समन्वय स्थापित कर जानमाल की हानि का आंकलन कर सहायता और पुर्नवास की योजना बनाकर कार्य करते हैं।


– संघ स्थापना के पूर्व ही डा. हेडगेवार द्वारा आपदा सहयोग की भावना रही, आप दामोदर नदी में आई बाढ़ में चिकित्सकों के दल को लेकर गए। दवाएं, भोजन एवं आवश्यक सामग्री का वितरण किया। संघ स्थापना के बाद भी जब प्राकृतिक या मानव जनित आपदाएं देश में आई, संघ के स्वयं सेवकों द्वारा सहयोग किया गया, तब ही आरएसएस को रेडी फॉर सेल्फलेस सर्विस के नाम से जाना जाता है। सेवा भारती, सेवा विभाग एवं राष्ट्रीय सेवा भारती की स्थापना के पश्चात भी आपदाओं में सबसे पहले सहयोग पहुंचाने से संघ के प्रति समाज की विश्वसनीयता बढ़ी है।


– बीते कुछ वर्षो में कई आपदाएं एक साथ आईं, केरल में आई भीषण बाढ़ में 55 लाख लोग प्रभावित हुए, 65 हजार पुरूष, 20 हजार महिलाएं कार्यकर्ता सहयोग में लगे। बर्तन, दवाइयां, कंबल, बिस्तर, खाद्य सामग्री तथा नगदी सभी मिलाकर कुल 181 करोड़ रूपए का सहयोग केरल भेजा गया।


त्रिपुरा में आई भीषण बाढ़ में डा. हेडगेवार स्मारक समिति- अगरतला द्वारा सहयोग हेतू अनुरोध आने पर छोटी टोली तत्काल 10 लाख रुपए नकर तथा 5000 स्कूल बैग, जिनपर 11,07,095 रुपए व्यय हुए अगरतला भेजे गए।


उड़ीसा में तूफान के कारण आई भीषण आपदा में 21 लाख नगद सहयोग भेजा गया, विजय दशमी पर अमृतसर में सैंकड़ो लोग रेलगाड़ी से कट गए, यहां भी सैंकड़ों कार्यकर्ता आपदा सहायता में जुटे रहे। आपदा प्रबंधन में प्रशिक्षण हेतू एक दिन, तीन दिन एवं सात दिन का प्रशिक्षण मॉडल तैयार किया गया है। इसी क्रम में नई दिल्ली के वजीराबाद एवं झिंझोली में आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण केन्द्र विकसित करने की योजना बनी है। उत्तर पूर्व पर्वतीय तथा तटीय क्षेत्रों में आपदा प्रबंधन केन्द्र विकसित किए जा रहे हैं, मोबाइल तथा एलईडी बल्बों से उत्पन्न रेडिऐशन से आने वाली आपदा के बारे में भी लोगों को जागरुक किया जा जा रहा है।

3-350x300
3-350x300

2-350x300
2-350x300

Describe your image

7-350x300
7-350x300

Describe your image

3-350x300
3-350x300

1/5

ODISHA DISASTER

पश्चिम बंगाल एवं उड़ीसा में आए चक्रवर्ती तूफान अम्फान ने भारी तबाही मचाई है इस प्राकृतिक आपदा से बंगाल में जानमाल का नुकसान बहुत ही अधिक पैमाने पर हुआ है तूफान ग्रसित इलाके में रहने वाले परिवारों और उनके बच्चों को सुरक्षा सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता है राष्ट्रीय सेवा भारती की प्रांत सेवा संस्था ''समाज सेवा भारती पश्चिम बंग'' स्थानीय लोगों के साथ मिलकर इस स्थिति को निपटने के लगातार कार्य कर रही है| कार्यकर्ताओं द्वारा किए जा रहे कार्यों के कुछ फोटो|

sssss.jpg
asfsafs.jpg